Sunday, January 29, 2023

Aamir Khan Should Stay Away From Advertisements And Acts That Hurt Religious Sentiments: Narottam Mishra – आमिर खान को धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाले विज्ञापनों और कृत्यों से दूर रहना चाहिए : नरोत्तम मिश्रा


आमिर खान को धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाले विज्ञापनों और कृत्यों से दूर रहना चाहिए : नरोत्तम मिश्रा

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को कहा कि बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान को धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाले विज्ञापनों और कृत्यों से दूर रहना चाहिए. खान और अभिनेत्री कियारा आडवाणी को एक बैंक के विज्ञापन के बाद सोशल मीडिया पर आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. मिश्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि खान को भारतीय परंपराओं और रीति-रिवाजों को ध्यान में रखते हुए विज्ञापन करने चाहिए.विज्ञापन में खान और आडवाणी को नवविवाहित जोड़े के रूप में अपनी शादी से लौटते हुए दिखाया गया है और चर्चा की जा रही है कि वे दोनों बिदाई के दौरान नहीं रोए थे.

यह भी पढ़ें

विज्ञापन में आगे दिखाया गया है कि जोड़ा दुल्हन के घर पहुंचता है और दूल्हा दुल्हन के घर में पहला कदम रखता है, जो परंपारिक प्रथा के विपरीत है, जबकि पारंपरिक प्रथा के अनुसार दुल्हन, दूल्हे के घर जाती है और उसके घर में पहला कदम रखती है.इस बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा, ‘शिकायत मेरे पास भी आई है. शिकायत मिलने के बाद एक निजी बैंक के लिए अभिनेता आमिर खान का विज्ञापन मैंने भी देखा है. मेरा आमिर जी से अनुरोध है कि भारतीय परंपराओं और रीति-रिवाजों को ध्यान में रखकर आगे इस तरह का विज्ञापन करें.”

सोशल मीडिया पर इस विज्ञापन को लेकर छिड़ी बहस में फिल्मकार विवेक अग्निहोत्री भी कूद गए.अग्निहोत्री ने अपने ट्विटर हैंडल पर विज्ञापन पोस्ट करने के साथ-साथ लिखा, ‘‘मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि बैंक कब से सामाजिक और धार्मिक परंपराओं को बदलने के लिए जिम्मेदार हो गए हैं? मुझे लगता है कि ‘एयू बैंक इंडिया’ को भ्रष्ट बैंकिंग प्रणाली को बदलकर सक्रियता दिखानी चाहिए. ऐसी बकवास करते हैं फिर कहते हैं हिंदू ट्रोलिंग कर रहे हैं. बेवकूफ.”अग्निहोत्री के ट्वीट के बाद इंटरनेट पर सक्रिय कई लोगों ने अपनी टिप्पणियां और राय पोस्ट की. यहां तक कि ‘एयू स्माल फाइनेंस बैंक’ का बहिष्कार करने जैसे हैशटैग भी चल रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : नोटबंदी के नाकाम फैसले का क्या था आधार?

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,682FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

icon

We'd like to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime