Sunday, January 29, 2023

If Next US Recession Be Worst Than The Great Financial Crisis Know What Economic Experts Has To Say – अमेरिका में आएगा सबसे बड़ी मंदी का बुरा दौर? जानें क्या कहते हैं अर्थशास्त्री और विशेषज्ञ


अलाइंज़ एस ई के चीफ इकॉनमिक एडवाइज़र मोहम्मद एल इरिन कहते हैं कि  उन्हें चिंता है कि 1970 के दशक की गलती ना दोहराई जाए. जहां सरकार ने सरकार ने आर्थिक कमजोरी के जवाब में नीतियों को ढीला कर दिया था जबकि तंत्र से महंगाई कम नहीं नहीं हुई थी.  ब्लूमबर्ग के अर्थशास्त्री कहते हैं, “सरकार तब तक ऐसा नहीं करेगी जब तक महंगाई नीचे नहीं आ जाती. इसका मतलब यह है कि सरकार आर्थिक कमजोरी चरम पर जाने देगी, जिससे मंदी का समय बढ़ जाएगा.”

सरकारी अधिकारी जेरोम पॉवेल कहते हैं कि मंदी का खतरा है लेकिन अर्थव्यवस्था अभी भी मजबूत है और मंदी से बचने के लिए ब्याज दरों को बढ़ाया जा सकता है. लेकिन उनकी इस बात से निजी अर्थशास्त्री सहमत नहीं है. नोकोलस एंड कंपनी की प्रमुख अर्थशास्त्री लिंडसी पीग्ज़ा कहती हैं, “अर्थव्यवस्था का धराशाई होना टाला नहीं जा सकता. अब यह बात इस प्रश्न से परे हो गई है कि क्या मंदी आएगी या नहीं, अब मुद्दा यह है कि इसका कितना नुकसान होगा और यह कितने समय तक रहेगी.”

जैसा की कुछ 40 साल पहले हुआ था कि सकल घरेलू उत्पाद में कमी इस वजह से आई थी कि सेंट्रल बैंक भागती उपभोक्ता दरों पर लगाम लगाने लगा था. सरकार की महंगाई दर उसके 2% के लक्ष्य से तिगुने पर पहुंच चुकी है. लेकिन 1980 के दशक या फिर 2007-09 की आर्थिक मंदी जैसा बुरा हाल नहीं होगा ऐसा सोचने के अच्छे कारण भी हैं. तब बेरोजगारी दर दहाई के आंकड़े में पहुंच गई थी. 

फिलहाल उपभोक्ता, बैंक और हाउसिंग मार्केट सभी 2007-09 की मंदी की तुलना में किसी भी गड़बड़ी के लिए पहले से अधिक तैयार हैं. 

डॉएचे बैंक सिक्योरिटी के चीफ अमेरिकी अर्थशास्त्री मैथ्यू लुजेटी कहते हैं, “प्राइवेट सेक्ट की बैलेंस शीट बेहतर है. मंदी के पहले दिखने वाली मुनाफाखोरी भी नहीं की जा देखी जा रही है.” 

अच्छी बात यह है कि सरकार ने लोगों की बचत बढ़ाने के लिए काफी पैसा दिया है. सरकारी आंकड़े के अनुसार, पहली तिमाही में घर का कर्ज डिस्पोजेबल पर्सनल इनकम के केवल 9.5% पर रहा. यह 2007 के आखिर में देखे गए 13.2% के आंकड़े से काफी कम है.  

बैंकों ने अपने हिस्से पर सरकार के ताजा स्ट्रेस टेस्ट पर एक्ट किया था, जिससे साबित हुआ था कि उनके पास बढती बेरोजगारी, गिरते रियल-एस्टेट के दाम और स्टॉक के मिश्रण से निपटने की क्षमता है.  

लेबर मार्केट में पहले ही कर्मचारियों की कमी है. इससे कंपनियां लोगों को कम नौकरी से निकालेंगी. खासकर अगर मंदी का असर धीमा रहा तो.  वेल्स फार्गो कॉपरेट एंड इंवेस्टमेंट बैंक के चीफ इकॉनमिस्ट कहते हैं, ” पिछले 2 साल से कंपनियों को कर्मचारी नहीं मिल पा रहे हैं.

हमें नहीं लगता अधिक लोगों को निकाला जाएगा. कुछ अर्थशास्त्रियों को लगता है कि अलगी मंदी लबे समय तक रहेगी अगर सरकार अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए काम नहीं करती है. लेकिन सरकार ने संकेत दिया है कि अगर महंगाई बहुत बढ़ती है  तो वो ऐसा कर सकती है. पॉवेल ने सेंट्रल बैंकिंग कॉन्फ्रेंस में पिछले हफ्ते कहा कि कीमकों को स्थिर करने में विफल रहना अमेरिका को मंदी की तरफ धकेलने से अधिक बड़ी गलती होगी.  

 



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,682FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

icon

We'd like to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime