Friday, June 9, 2023

Opposition Got Opportunity To Attack On Yogi Government Due To Displeasure Of Ministers In UP – यूपी में मंत्रियों की नाराजगी से विपक्ष को मिला योगी सरकार पर हमले का मौका


– पहले लोक निर्माण विभाग के मंत्रालय में विद्रोह

– फिर स्वास्थ्य मंत्रालय में विद्रोह

– अब जल शक्ति मंत्रालय में विद्रोह

जनता पूछ रही है, उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ईमानदारी से बताए…अब अगली बारी किसकी है?’

वहीं बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने एक ट्वीट कर कहा, ‘उत्तर प्रदेश भाजपा मंत्रिमण्डल के भीतर भी दलित मंत्री की उपेक्षा अति-निन्दनीय और दुर्भाग्यपूर्ण है. ऐसी खबरें राष्ट्रीय चर्चाओं में हैं. सरकार अपनी जातिवादी मानसिकता व दलितों के प्रति उपेक्षा, तिरस्कार, शोषण व अन्याय को त्याग कर उनकी सुरक्षा व सम्मान का ध्यान रखने का दायित्व जरूर निभाए.’

कांग्रेस के मीडिया संयोजक अंशु अवस्थी ने अपने बयान में कहा कि दिनेश खटिक द्वारा इस्तीफे का प्रस्ताव किया जाना भाजपा सरकार में दलितों के अपमान और जीरो टॉलरेंस की सच्चाई को उजागर करता है. उन्होंने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार एक उद्योग बन गया है जो भाजपा की सरकार में फल-फूल रहा है.

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग में तबादलों को लेकर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक की नाराजगी और मंत्री जितिन प्रसाद के लोक निर्माण विभाग में पांच वरिष्ठ अधिकारियों के निलंबन के बाद जल शक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटिक ने दलित होने के कारण अधिकारियों द्वारा अपनी अनदेखी का आरोप लगाते हुए इस्तीफे की पेशकश की है.

खटिक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को संबोधित एक पत्र में इस्तीफा देने की इच्छा जाहिर की है. उनका यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इस्तीफे की पेशकश करने वाले जल शक्ति राज्यमंत्री खटिक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में अपने विभाग में भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए और कहा कि अधिकारी उनकी बात नहीं सुनते. हस्तिनापुर से भाजपा विधायक खटिक ने विभागीय अधिकारियों के खिलाफ शिकायत करते हुए अपनी दलित पृष्ठभूमि का जिक्र किया.

इससे पहले, प्रदेश के उपमुख्यमंत्री जो कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री भी हैं, ने जुलाई के शुरू में विभाग में हुए तबादलों पर नाराजगी जाहिर करते हुए आरोप लगाया था कि तबादलों में स्थानांतरण नीति का ठीक से पालन नहीं किया गया. उन्होंने इस सिलसिले में विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद से जवाब भी तलब किया था.

प्रदेश सरकार के लिए असहज स्थिति पैदा करने वाले इस मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तीन सदस्यीय जांच समिति बनायी है. इसी बीच प्रदेश के लोक निर्माण विभाग में हुए तबादलों में गंभीर अनियमितताओं की शिकायत पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशानुसार बुधवार को पांच वरिष्ठ विभागीय अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया.

हालांकि विभागीय मंत्री जितिन प्रसाद ने इसे भ्रष्टाचार के प्रति सरकार की ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति का परिणाम बताया. विभाग में हुए तबादलों में अनियमितताओं को लेकर नाराजगी के सवाल पर प्रसाद ने कहा ‘नाराजगी का कोई प्रश्न ही नहीं है.’ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनका ऐसा कोई इरादा नहीं है. बहरहाल, सरकार के अंदर चल रहे इन विवादों ने विपक्ष को मौका दे दिया और समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी तथा कांग्रेस ने राज्य सरकार को इस मसले पर घेरा है.

ये भी पढ़ें:

महाराष्ट्र : कैबिनेट मंत्री पद दिलाने के नाम पर 100 करोड़ मांगने वाले एक गिरोह को पुलिस ने पकड़ा

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,803FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

icon

We'd like to notify you about the latest updates

You can unsubscribe from notifications anytime